A digital magazine on sexuality in the Global South

हिन्दी

हिजड़ा समाज के भीतर निर्धारित श्रेणीबद्धता

(यह लेख हिजड़ा समुदाय पर शोध करते हुए इस बात को समझने का प्रयास है कि हिजडों की भूमिका पर अपना मत रखने के क्या अर्थ हैं और हिजड़ा बनने की प्रक्रियाएँ क्या हैं। यह अध्ययन दिल्ली, भारत, में रहने वाले हिजड़ा समुदाय के नृजातीय (Ethnographic) अध्ययन पर आधारित है और सामाजिक अंग के रूप…

एक थी अमृता प्रीतम: पंजाबी की पहली लेखिका

“हम आधुनिक हैं। पढ़े-लिखे हैं, किसी भी मुद्दे पर बात करने में हमें हिचक नहीं होती है ” यह बड़ा ही आम विचार है, जो मौजूदा समय में हमारे, आपके या यूं कहें कि जमाने के साथ कदम-से-कदम मिला कर चलने वाले हर शख्स के जेहन में रहता है, लेकिन जब बात हो अपनी जिंदगी की,…

चुनौती पहुँच की – इच्छाएँ, कल्पनाएँ और विकलांगता के साथ रह रहे लोग

प्रत्येक फैंटसी या कल्पना एक बेहद ही निजी अनुभव होती है, भले ही यह मन में ही रखी जाए या दूसरों को बतायी जाए, और चाहे उसका सम्बन्ध यौनिकता से हो या नहीं। कोई व्यक्ति किस तरह से अपनी यौनिकता (या फिर औरों की भी) का निर्माण कर पाते हैं और यौन आनंद और इच्छाओं को किस तरह…

प्रमदा मेनन : क्यों परिवार हमारे हमारे दिलो-दिमाग पर इस कदर छाए रहते हैं?

प्रमदा मेनन एक क्विअर नारीवादी एक्टिविस्ट हैं जो हर उस विषय पर विवेचना करती हैं जिसे वे जटिल मानती हैं। जब वे विवेचना नहीं कर रही होती हैं तब वे जेंडर, यौनिकता और महिला अधिकारों पर कंसलटेंट के रूप में काम करती है और कभी-कभी Fat, Feminist and Free का मंचन भी करती हैं जिसमें…

महिला मानवाधिकार रक्षकों के स्वयं की देखभाल और स्वास्थ्य रक्षा को सक्रियतावाद में राजनीतिक मुद्दे के रूप में देखना

वेरोनिका विडाल व् सुज़न टोलमे द्वारा संपादकीय नोट – इन प्लेनस्पीक के इस अंक में हम ‘समुदाय एवं यौनिकता’ के विभिन्न आयामों को देख रहे हैं। जहाँ अपने समुदायों की पहचान करना और उनमें अपने लिए जगह बनाना एक विशिष्ट आयाम है, वहीँ इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि इन समुदायों…
hum apace hai kaon film still

हम आपकी हैं समधन

शुरुआत में ही स्वीकार लेता हूँ की मुझे शादियों का बहुत शौक़ है।   जब अपनी राजनैतिक सोच और व्यक्तिगत शौक़ में उत्तर-दक्षिण का अंतर हो तो आख़िर क्या किया जाए? पर सोच और आनंद देने वाले शौक़ का अंतर कभी-कभी इतना स्पष्ट नहीं होता। विवाह आयोजनों के दौरान नृत्य कोरियोग्राफी करने (जी हाँ, यह…

पहली बार इंटरनेट से जुड़ते लोग

फोटोग्राफ़र लॉरा डे रेनल ऐसे संगठनों की कोशिशों को कैमरे में क़ैद कर रही हैं, जो लोगों को पहली बार इंटरनेट से जोड़ने में मदद कर रहे हैं. मेडागास्कर के स्कूली छात्रों ने पहली बार इंटरनेट पर विकीपीडिया देखा और उससे मिली जानकारी को ब्लैकबोर्ड पर लिखा. लगभग एक दशक पहले 'वन लैपटॉप पर चाइल्ड'…

अगर इन्टरनेट का अस्तित्व ही न होता तो?

अगर इन्टरनेट न होता, तो मुझे लगता है कि मैं खुद में बहुत ही असुरक्षित महसूस करती। इस बात से आप कोई अन्य अर्थ न निकालें – यहाँ मेरी बात में ज़्यादा ज़ोर ‘असुरक्षित’ से अधिक ‘बहुत ही’ पर है। इसी बात को दुसरे पहलु से देखें तो इसका अर्थ यह निकलता है कि इन्टरनेट…
x