A digital magazine on sexuality in the Global South
What Do Films and Sexuality Have to do With Each Other?

The Editorial: Films and Sexuality

The arts hold great sway on how sexuality is viewed, represented, and understood. Does art imitate life, or life, art? Or can it be tossed away as an inscrutable mix of the two influencing each other?
African Feminist Filmmakers and their Engagements with Film

African Feminist Engagements with Film

African feminist filmmakers and theorists reflect on the shifting roles of women working at all levels of the film and media industries on the continent, and the task of making films that challenge the existing fictions that misrepresent and distort women's realities.

राज कपूर की सत्यम शिवम् सुन्दरम में आकांक्षाएँ और समझौते

सयद साद अहमद द्वारा लिखित “हम क्या वास्तव में सच जानना चाहते हैं? सत्य की क्या आवश्यकता है? उसके बदले में झूठ क्यों नहीं? अनिश्चितता? अज्ञानता?...कोई वचन झूठ हो, ज़रूरी…
Online Sex, Honour, Shame and Blackmail

Sex, Honour, Shame and Blackmail in an Online World

Thousands of young women in conservative societies across North Africa, the Middle East, and South Asia are being shamed or blackmailed with private and sometimes sexually explicit images. A look at how smartphones and social media are colliding head-on with traditional notions of honour and shame.

सिनेमा, संगीत और सहमति पर बातचीत

गाने अक्सर फिल्मों से अधिक लोकप्रिय होते है और अपने अलग ही मतलब का निर्माण करते हैं। इनका मतलब उनता ही विविध है जितना इनको सुनने वाले लोग। मैं यह बिल्कुल नहीं मानता कि हम जो फिल्म और चित्र देखते है उसका हमारे जीवन पर सीधा असर पड़ता है। हिंसक या अन्यथा मूर्खतापूर्ण कार्यों के लिए दोषी वह ही हैं जो यह कार्य करते हैं और वे जो उन्हें बेहतर शिक्षा दे सकते थे पर उन्होंने ऐसा नहीं किया। शिक्षा और बातचीत से हम युवाओं को सही समझ और बेहतर निर्णय लेने के लिए सक्षम बनाते हैं।
x