A digital magazine on sexuality in the Global South: We are working towards cultivating safe, inclusive, and self-affirming spaces in which all individuals can express themselves without fear, judgement or shame
एक लड़की की तस्वीर जो समुद्र के किनारे ढलते सूरज को देख रही है
Ageing and SexualityCategoriesहिन्दी

महिला जीवन, बढ़ती उम्र और यौन स्वतन्त्रता 

बात अगर यौनिक स्वतंत्रता की हो, तो हमारा यह पितृसत्तात्मक समाज पुरुषों को यौनिक जीव बने रहने का अधिकार तब तक प्रदान करता है, जब तक कि वे पुरुषत्व और विषमलैंगिक यौनिकता की सीमाओं का पालन करते रहते हैं। अधिकांश पुरुष इसी सोच के साथ जीवन जीते हैं कि यौनिक व्यवहार करते रहने की स्वतंत्रता और काबिलियत उन्हें उनके पुरुष यौनांग के साथ ही मिलती है। यही कारण है कि यौनिक व्यवहार दर्शाना और इसका उपयोग करते रहना कुछ पुरुष अपना जन्मसिद्ध अधिकार मानते हैं। ऐसा नहीं है कि सभी महिलाओं को स्वछंद यौन व्यवहार करने की छूट नहीं होती है; हाँ लेकिन यह पुरुषों के मुकाबले  कहीं कम होती है।  

कल्पना करें अगर एक 20 वर्ष की महिला एक दवा की दुकान में जाकर कोंडम मांगती है और एक 30 वर्ष की महिला भी ऐसा ही करती है। इन दोनों ही महिलाओं के बारे में लोग आमतौर पर गलत धारणा ही बना लेते हैं, लेकिन इसकी भी संभावना हो सकती है कि शायद बड़ी उम्र की इस महिला के  बारे में यह  धारणा  कदाचित कुछ कम बने। और अगर यह महिला शादीशुदा दिखती है तो शायद लोग इसके बारे में बिलकुल भी गलत सोचें। हमनें अनेक बार ऐसा देखा है कि काम उम्र की युवा अविवाहित महिलाओं को समाज की नज़रों से बचने के लिए अनेक बार शादीशुदा होने का दिखावा करना पड़ता है और इसके लिए वे मांग में सिंदूर लगा लेती हैं या मंगल सूत्र पहन लेती हैं। युवा महिला और पुरुष जोड़ों को एकांत में यौन सुख के कुछ क्षण बिताने के लिए सुरक्षित स्थान में मिलना कितना कठिन होता है। समाज में कुछ ऐसे लोग हैं जोआपसी सहमति से, अपनी यौन इच्छाओं को व्यक्त करने या सेक्स करने वाले युवा जोड़ों को भी सलाखों के पीछे पहुंचाना अपना नैतिक कर्तव्य समझते हैं। ऐसे में भारत जैसे और दूसरे अनेक देशों में यौन रूप से सक्रिय युवा जोड़ों को अपनी यौनिकता व्यक्त करने के लिए सुरक्षित स्थानों के अभाव देखा जाता है। 

लेकिन उम्र बढ्ने के साथसाथ यह समीकरण भी बदलने लगते हैं और हम पर अपने फैसले खुद लेने का दायित्व जाता है। उम्र के बढ्ने के साथसाथ, विषमलैंगिक विवाह संबंध भी यौनिक स्वतंत्रता पाने के लिए लाइसेन्स का काम करते हैं। किसी विवाहित महिला के मन में सेक्स करने की चाहत पर किसी को आपत्ति नहीं होती, क्योंकि ऐसा करने पर उसके पति को भी आनंद मिलता है और फिर इससे संतान की उत्पत्ति तो होती ही है। वहीं दूसरी ओर अविवाहित महिलाओं को अपनी मर्ज़ी से जीवन व्यतीत करने का अधिकार नहीं होता और स्त्रीत्व की मान्य सामाजिक मर्यादा का उल्लंघन करने पर उनके यौनिक व्यवहार को बढ़ाचढ़ाकर बताया जाता है या फिर उन्हें सेक्सविहीन घोषित करने की कोशिश होती है। किसी महिला को अपनी मर्ज़ी से यौनिक व्यवहार करने की छूट अनेक सामाजिक संदर्भों में अलगअलग तरह से मिल सकती है लेकिन, विवाह कर यौनिक स्वतंत्रता का लाभ उठाना महिलाओं के लिए सबसे अधिक महत्व रखता है। 

मेरा खुद का अनुभव में मैंने देखा है कि अपनी उम्र बढ्ने के साथ अब मैं कुछ खास तरह के यौनिक व्यवहारों में अधिक आत्म विश्वास से अपनी इच्छा अनुसार काम कर पाती हूँ जबकि पहले कम  उम्र में ऐसे ही व्यवहारों के लिए मुझे बहुत सोचना पड़ता था और मैं इतनी हिम्मत नहीं कर पाती थी। युवा उम्र में मुझे यौनिकता के बारे में इतनी जानकारी नहीं थी कि मैं खुद को आश्वस्त कर पाऊँ, और ही मुझमे अपने फैसलों की ज़िम्मेदारी लेने की हिम्मत और योग्यता थी। लेकिन अब विवाहित होने के बाद मुझे खुद में, यौन आनंद उठा पाने की क्षमता और स्वतंत्रता अधिक महसूस होती है। लेकिन अब भी अगर बात विवाह में रेप की रिपोर्ट करने की आए, तो अदालतें शायद मुझे यह अधिकार नहीं देंगी, क्योंकि मुझसे यह अपेक्षा नहीं की जाती है कि मैंअपने पतिकी यौन ज़रूरतों को पूरा करने की अपने संस्कारी कर्तव्य को अनदेखा कर दूँ या भूल जाऊँ।  

लेकिन वहीं किसी भी अधेड़ उम्र की विषमलैंगिक विवाहित महिला के  प्रति समाज का रवैया नम्र होता है और और समाज इस महिला की यौन इच्छाओं को स्वीकार कर लेता है। हालांकि अभी मुझे लगता है कि अपनी उम्र और वैवाहिक स्थिति के कारण मुझे बहुत हद तक यौनिक व्यवहार की स्वतंत्रता मिल पायी है, लेकिन मुझे यह भी मालूम है कि अपनी इसी उम्र में मैं इस यौन जीवन चक्र में उफान की दिशा में बढ़ रही हूँ। आगे चलकर उम्र बढ्ने के साथ, मेरे इस चक्र में नीचे की ओर बढ्ने की पूरी संभावना रहेगी। रजोनिवृत्ति (मैनोपौज़) के बाद तो मेरे शरीर को यौन विहीन ही समझा जाने लगेगा और तब मुझसे अपेक्षा की जाएगी कि मैं सेक्स में अपनी रुचि को भूल जाऊँ और अपनी यौन इच्छाओं को मन में ही दबा लूँ। लेकिन मैं क्यों in धारणाओं से प्रभावित हूँ   आखिर वर्तमान में जीने का नाम ही ज़िंदगी है! तो क्यों मैं बड़ी मेहनत से मिले इस अवसर का पूरा लाभ उठा लूँ। 

लोगों के एक मिश्रित समूह में अब कोईउत्तेजकचुटकुला सुना देने पर भी लोगों के माथे पर कम ही शिकन पड़ती है। हालांकि  इसमें खतरा भी हो सकता है और लोगों को आपत्ति भी हो सकती है लेकिन बातों में यौनिक शब्दों या विचारों को व्यक्त कर दिये जाने को भी अब अनदेखा कर दिया जाता है। अब अगर किसी की तारीफ में दो शब्द कह दिये जाएँ, भले ही किसी पुरुष की तारीफ कर दी जाये, तो उसे भी आदरस्वरूप ही लिया और समझा जाता है। कभी कभी तो एकदो मादक घूंट भर लेने के बाद किसी के साथ छेड़छाड़ करने की भी छूट मिल जाती है क्योंकि इसे स्वाभाविक और हानिरहित समझा जाता है। अब अगर खुलकर भी अपनी यौन इच्छाओं के बारे में बात करूँ, कम से कम अपनी महिला मित्रमंडली के बीच, तो बहुत ही कम लोगों को हैरानी होती है। ऐसी संभावना भी बहुत हो सकती है कि कभी अपने मन की उत्तेजक और यौनिक  कल्पनाओं को पूरा कर पाना भी शायद संभव हो पाये। अभी उम्र का वह पड़ाव है जब जीवन में कुछ नया कर पाने या अपने बेडरूम में अपनी शर्म का त्याग करने और कुछ नए प्रयोग करने की छूट भी है और हिम्मत भी।   

समय बीतने के साथसाथ, लोग अपने शरीर के प्रति कम संकोची हो जाते है और अपने शरीर पर पहले से अधिक नियंत्रण महसूस कर सकते है। इस उम्र में किसी खास तरह की शारीरिक संरचना पाने की इच्छा भी उतनी बलवती नहीं रहती और ही त्वचा के सही रंग और बालों के सही आकार और स्वरूप को पाने की इच्छा रहती है जैसा कि इस पूंजीवादी व्यवस्था में फैशन की मांग होती है। कई तरह से लोग अनेक शारीरिक कमियों और मोटापे से भी समझौता करने लगते है। 

हैरानी की बात यह है कि अधेड़ उम्र की किसी महिला को संबंध बनाने के लिए दूसरे पुरुषों की नज़रों में आकर्षक दिखने के दबाव  का सामना भी नहीं करना पड़ता क्योंकि वो तो पहले ही किसी कीबन चुकीहोती है। एक ही संबंध रखने की मान्यता के इस समाज में किसी महिला को दूसरे पुरुषों की खुद में रुचि जागृत करने की भी ज़रूरत नहीं रहती और इसीलिए उसे खुद को सजाने और सँवारने की जरूरत महसूस ही नहीं होती। अब चूंकि वो अपनीयौनिक सुंदरताकी आखिरी दहलीज़ पर पहुँचने वाली होती है, तो फिर वह भले ही एक बेडौल बोरी की तरह दिखने लगे, क्या फर्क पड़ता है!   

सुनने में यह कितना ही अटपटा क्यों लगे, लेकिन ऐसा प्रतीत होता है की महिलाओं को भी, महिला होते हुए भी, समय बीतने के साथसाथ कुछ यौनिक स्वतंत्रता ज़रूर मिल पाती है। मुझे याद है, जब मेरी उम्र लगभग 20 वर्ष की थी, तब मैं अनेक बार डर और शर्म के मारे अपने अंगों पर पुरुषों के हाथों के छूने और जानबूझकर मुझसे टकराकर निकलने को अनदेखा करती थी, लेकिन अब शायद मैं ऐसा बिलकुल नहीं होने दूँगी। हम युवा महिलाओं द्वारा यौन उत्पीड़न सहने और शोषण किए जाने पर भी इसकी शिकायत करने के अनेक मामलों के बारे में सुनते हैंउसका कारण भी यही होता है कि उन्हें शर्मिंदगी उठाने से डर लगता है और लगता है कि कहीं इसका दोष भी उन्हीं के  सर पर मड़ दिया जाये। यहाँ तक कि अपनी रज़ामंदी से बनने वाले या फिर वैवाहिक सम्बन्धों में भी सेक्स के समय गर्भनिरोधक के प्रयोग के बारे में या फिर किस तरह से सेक्स किया जाये, इस पर युवा महिलाएं अक्सर इसलिए अपनी इच्छा व्यक्त नहीं कर पाती हैं क्योंकि वे अपने साथी को नाखुश करने से डरती हैं। लेकिन किस्मत साथ दे तो समय के साथ हमें हिंसा के खिलाफ आवाज़ उठाने के लिए कुछ तरह के कौशल जाते हैं, हम अपनी बात कह पाते  हैं और अपने यौन और सामाजिक जीवन में अपने फैसलों को लागू करने पर अपने विचार रख पाते  हैं। 

व्यक्तिगत रूप से मुझे, एक युवा अविवाहित लड़की से अब प्रगतिशील और सकारात्मक  प्रभाव और संतोषजनक सम्बन्ध रख चुकी उम्रदराज़ विवाहित महिला बनने के इस सफर से अपने निजी जीवन में अपनी प्राथमिकताएँ निर्धारित करने में बहुत मदद  मिली है। मैं अब उन सामाजिक  मान्यताओं को अनदेखा करना जानती हूँ जो मेरे शरीर और आनंद के बीच दीवार बन कर खड़ी होती हैं। फिर भले ही यौन और सामाजिक सम्बन्धों की बात हो, सेक्स करने के तरीके की बात हो, गर्भनिरोधक के प्रयोग का निर्णय हो, सेक्स के लिए सहमति देने या देने की बात हो, यौन उत्पीड़न होने पर इसकी शिकायत करनी हो या फिर यौनिकता से जुड़े मुद्दों पर अपनी बात कहनी हो, मुझे लगता है कि मेरी उम्र के कारण या फिर मेरे विवाहित होने के कारण मुझे बहुत हद तक अपनी इच्छाओं को पूरा कर पाने की स्वतंत्रता  मिल पाती है। ऐसा नहीं है कि एक महिला होने के नाते मेरे फैसलों पर लोग मेरे बारे में राय कायम नहीं करते, वे ऐसा करते हैं लेकिन अब ऐसा कम ही होता है। अब मैं अपनी यौन इच्छाओं को व्यक्त कर पाने में खुद को सक्षम पाती हूँ, जोकि कम उम्र में किसी के लिए संभव नहीं होता। चूंकि मेरा यौनिक अस्तित्व अभी भी सामाजिक तौर पर स्वीकृत सिसजेंडर, विषमलैंगिक और विवाहित अर्थात एक व्यक्ति से संबंध रखने वाली  (मोनोगैमस) महिला के रूप में ही परिभाषित होता है, इसलिए मुझे अपने व्यवहार के कारण तब तक किसी चुनौती का सामना नहीं करना पड़ता जब तक कि में खुलकर इन अपेक्षित सीमाओं  का उल्लंघन नहीं करने लगती। इसलिए मैं अपनी इस वर्तमान स्थिति का लाभ उठाते हुए इसका प्रयोग अपने उन यौन अधिकारों को पाने के लिए करती हूँ, जो मेरा अधिकार है। 

लेखिका : राम्या आनंद 

राम्या आनंद तारशी में काम करती हैं और निजी तौर पर बच्चों और युवाओं के लिए यौनिकता विषय पर वर्कशाप्स का भी आयोजन करती हैं। वे यौनिकता, जेंडर, प्रजनन स्वास्थ्य अधिकार, मानसिक स्वास्थ्य और पैरवी कार्य से जुड़े विषयों पर काम करती रही हैं। कुछ नया सीखने के लिए हमेशा प्रेरित रहती हैं और अच्छा खाने और घूमने जाने की चाह उनके मन में निरंतर  बनी रहती है।  

सोमेन्द्र कुमार द्वारा अनुवादित।

To read this article in English, click here.

Cover Photo: Author

Comments

Article written by:

Ramya Anand works at TARSHI and also conducts sexuality education workshops for children and young people at her individual capacity. She has been working on issues related to sexuality, gender, reproductive health and rights, mental health and advocacy. An enthusiastic learner, she also constantly craves food and travel.

x