A digital magazine on sexuality in the Global South: We are working towards cultivating safe, inclusive, and self-affirming spaces in which all individuals can express themselves without fear, judgement or shame
हैंड कफ की एक तस्वीर
CategoriesInnovations and Sexualityहिन्दी

सेक्स टॉय? हाँ क्यों नहीं, पर किसी को पता ना चले

जब मैंने पहली बार भारतीय बाजार में सेक्स टॉय संबंधित जरूरतों को पूरा करने का फैसला किया, तो मुझे एक बात पता थी – मेरे लिए सबसे बड़ी चिंता गोपनीयता बकरार रखने की होगी। मैं लोगों को आनंद पाने के लिए और अपने स्वयं की यौनिकता का पता लगाने के लिए स्वतंत्र महसूस करने के लिए सशक्त बनाना चाहता था, जिस तरह से वे चाहते थे, और उनके और उनके साथी के बीच अधिक मज़ा और खुशी मोहिया कराना चाहता था। हालांकि, चुनौतियाँ कई गुना थीं और उनमें से अधिकांश पैसे और लॉजिस्टिक्स या व्यवस्था के बारे में नहीं थीं। हमारे सामने जो चुनौतियाँ थीं, वे धुंधली सामाजिक-कानूनी व्यवस्था और गोपनीयता की गहरी आवश्यकता की थीं।

शुरुआती चरण में ही हमने महसूस किया कि कितनी महिलाएँ अपने शरीर को बेहतर समझने और आनंद पाने में रुचि रखती हैं। शुरुआत में उनमें से ज़्यादातर भारत के बड़े और विकसित शहरों की महिलाएँ थीं। धीरे-धीरे, हमने देखा कि विकासशील, छोटे शहरों की महिलाओं ने भी ऑर्डर देना शुरू कर दिया है। अच्छी तरह से शिक्षित, पेशेवर रूप से बसी, आर्थिक रूप से स्वतंत्र महिलाएँ, सेक्स टॉय का ऑर्डर देना चाहती थीं। वे यह पता लगाना चाहती थीं कि ऑर्गेज्म के लिए वाइब्रेटर का उपयोग करना कैसा लगता है।

केवल एक चीज थी – वे इसे सार्वजनिक रूप से खुलकर बताना नहीं चाहती थीं। वे नहीं चाहती थीं कि उनके पैकेज को उनके घर पर और / या उनके फ्लैटमेट को दिया जाए। उनमें से कुछ परिवारों के साथ रहती थीं और उनके इस राज़ का खुल जाना उनके लिए भारी पड़ सकता था। बाद में, हमें पता चला कि पुरुषों के लिए भी यही बात सच थी। जेंडर का गोपनीयता से कोई लेना देना नहीं था और वयस्क उत्पादों को खरीदने में जेंडर एक बहुत ही सीमित भूमिका निभा रहा था।

भारतीय उपभोक्ताओं की जरूरतों को पूरा करने में सफ़ल होने के सबसे बड़े कारणों में से एक यह था कि हमने उनकी गोपनीयता की आवश्यकता को संबोधित किया था। सिद्धांत रूप से, हमने यौनिकता के आसपास मौन की संस्कृति को तोड़ने के महत्व को समझा, वो मौन जिसे अक्सर यौन मामलों के बारे में गोपनीयता बनाए रखने के रूप में समझाया जाता है। हालांकि, व्यवहार में, हम यह भी समझ गए कि क्यों असतत पैकेजिंग, ऐसी डिजाइन जो अधिक लोगों के लिए स्वीकार्य हो और गोपनीय डिलीवरी मॉडल महत्वपूर्ण हैं।

हम एक अनोखी स्थिति में थे। हम एक ऐसा व्यवसाय थे जिसे खुद को एक बदलाव लाने वाले के रूप में सोचने की भी जरूरत थी। हम सिर्फ़ व्यापार में नई चीज़ें खोजने के लिए जिम्मेदार नहीं थे, बल्कि यौन चर्चा और यौन उत्पादों के लिए गोपनीयता को पुनर्परिभाषित करने के लिए भी ज़िम्मेदार थे।

अपनी यात्रा के दौरान, हमने महसूस किया कि बातचीत केवल शुरुआती बिंदु है। हमने सेक्स टॉय से संबंधित वार्तालापों से जुड़े वीडियो बनाना, बोलना और लिखना शुरू किया। हमने ‘असाधारण ग्राहक सेवा प्रोटोकॉल’ की प्रक्रियाओं को भी स्थिर किया जिससे कि ग्राहकों को उनकी आवश्यकताओं के अनुकूल उत्पाद मिल सकें। इसने हमारे ग्राहकों को उनकी आनंद संबंधी जरूरतों का सही समाधान प्रदान करने के लिए हम पर भरोसा करने का अधिकार दिया। हमने ग्राहकों के प्रश्नों और चिंताओं को स्वीकार किया, और उन संदेह और सीमाओं को भी स्वीकार किया जो उन्हें अपने प्रश्नों के उत्तर खोजने से रोकती होंगी।

इस प्रक्रिया में, व्यवसाय के अलावा हमें अंतरंगता, आनंद और यौनिकता के बारे में बातचीत की संभावना मिली। हमने ऐसे ही शुरू किया; हम सभी बेशरम होना चाहते हैं (शर्म के बिना) और इसके लिए हमें लगातार शर्मिंदा किया जाता है, हम चाहते हैं कि हम खुद को मुक्त करें और इसके लिए कोई हमारी आलोचना न करें, और इसलिए, हममें से कुछ ने कहा कि हम अपनी यौनिकता, कामुकता, इच्छा और आनंद से शर्मिंदा नहीं हैं। मुझे पता है कि यह कैसे समझा जा सकता है – एक व्यवसायी जो प्रचारक बनने की कोशिश कर रहा है – मुझे स्वयं भी दृढ़ता से लगता है कि अगर हम सेक्स और यौनिकता के आसपास शर्म, अपराध और चुप्पी की संस्कृति को तोड़ना चाहते हैं, तो हम सभी को एक साथ चलना होगा। व्यक्तियों, गैर सरकारी संगठनों, सरकारी निकायों (उम्मीद है), शिक्षकों के साथ-साथ व्यवसायों को भी एक बदलाव का कारण बनने के लिए एक साथ आना होगा। शायद, यह करने के लिए अब से बेहतर समय नहीं है!

To read this article in English, please click here.

Cover Image: Pixabay

Article written by:

Raj Armani is the co-founder & COO of India's #1 Adult Store - IMbesharam.com. He is now going global and strongly believes in his larger goal of democratising 'Sex & Pleasure' for Indians worldwide. He can be reached on raj@imbesharam.com.

x