A digital magazine on sexuality, based in the Global South: We are working towards cultivating safe, inclusive, and self-affirming spaces in which all individuals can express themselves without fear, judgement or shame

Author: Rohini Banerjee

उपन्यास 'फैनगर्ल' का पुस्तक आवरण

समीक्षा: रेनबो रौवेल के उपन्यास फैनगर्ल में फैनडम का समस्यात्मक प्रदर्शन

कैथ के किरदार और उसके जीवन को दिखाया जाना वास्तव में उन अनगिनत फैनगर्ल्स के प्रति अन्याय ही कहा जाएगा जो एक फैन के रूप में अपनी पहचान को अपने वास्तविक सामाजिक और यौनिक जीवन व रुझानों पर कभी भी हावी नहीं होने देती।
Abstract art, coloured in shades of olive green, black, peach, pink, yellow, orange, and purple. It appears to show two silhouettes, to the left are distinct parts of a woman's face and to the right a darker silhouette looking at these parts.

Media and the Power of Responsible Representation

It is the winter of 2013, and my father and I are sitting at an awkward distance from each other on the living room couch, our eyes trained on the television set as a popular prime time news debate discusses a subject we have never before talked to each other about – homosexuality. It is…

मीडिया और दायित्वपूर्ण चित्रण 

यह बात 2013 की सर्दियों के समय की है। एक शाम मैं और मेरे पिता, घर की बैठक में सोफ़े पर साथ बैठे टेलीविज़न देख रहे थे। टीवी पर उस समय प्राइम टाइम की न्यूज़ डीबेट में समलैंगिकता के विषय पर गर्मागर्म बहस चल रही थी। यह एक ऐसा विषय था जिस पर हम, पिता…
x