A digital magazine on sexuality in the Global South

Author: Trina Nileena Banerjee

Poster for the Bengali film, 'Dahan', showing a woman's face enlarged and facing the camera, and the smaller figure of a man dressed in a chequered shirt looking at her

एकजुटता असंभव सी : रितुपर्णो घोष की फिल्म दहन (1997) की समीक्षा

1 जून, 2014 त्रिना निलीना बनर्जी 1997 में रितुपर्णो घोष द्वारा उपन्यासकार सुचित्रा भट्टाचार्य के उपन्यास ‘दहन’ पर आधारित इसी नाम से बनी फिल्म में मध्यमवर्गीय नवविवाहिता रोमिता चौधरी ससुराल में अपने घर की बालकनी में खड़ी, घंटों नीचे सड़क की ओर देखती रहती हैं। विवाह के बाद कनाडा में रहने वाली अपनी बड़ी बहन…
x