A digital magazine on sexuality in the Global South

Author: Dipika Srivastava

Cover of Art of Extreme Self Care

द आर्ट ऑफ़ एक्सट्रीम सेल्फ-केयर – कुछ विचार

इन प्लेनस्पीक के लिए ये लेख लिखना मेरे लिए एक तीर से तीन निशाने जैसा रहा, पहला, संस्करण के लिए समीक्षा लिखना (जिसे मैं समीक्षा न कह कर, एक सारांश कहना चाहुँगी), दूसरा, मेरे स्वयं के लिए इस किताब से सीख लेना और तीसरा, जो इस किताब को पढ़ने के दौरान हुआ - ‘स्वयं की देखभाल’।…

महिलाओं का विवाह पश्चात् ‘प्रवसन’ और उससे जुड़े कुछ मुद्दे

यूँ तो विवाह और उससे जुड़े महिलाओं के ‘स्थान परिवर्तन’ को ‘प्रवसन’ का दर्ज़ा दिया ही नहीं जाता है, इसको एक अपरिहार्य व्यवस्था की तरह देखा जाता है जिसमें पत्नी का स्थान पति के साथ ही है, चाहे वो जहाँ भी जाए। पूर्वी एशियाई देशों में, १९८० के दशक के बाद से एक बड़ी संख्या में महिलाओं के विवाह पश्चात् प्रवसन का चलन देखा गया है जिन्हें ‘फॉरेन ब्राइड’ या विदेशी वधु के नाम से जाना जाता है।
A collage of ten pictures of Indian women activists and writers - Madam Kama, Savitribhai Phule, Akka Mahadevi, Sampat Pal Devi, Ismat Chughtai, Thawkchom Ramni, Mary Roy, Bhanwari Devi and Jhamak Ghimere in clockwise direction.

जिनपर हमें अभिमान है !

संपादक की ओर से: जैसा कि इस अंक के सम्पादकीय में बिलकुल सही कहा गया है, जन आन्दोलनों की उपस्थिति की कल्पना मानव की उत्पत्ति के साथ ही की जा सकती है। समाज की उत्पत्ति ने मतभिन्नता को भी जन्म दिया और समय-समय पर लोगों ने इसके विरुद्ध संघर्ष किए। ये विरोध जहाँ हमें यह…
A man in white and blue striped shirt, and a woman in a green saree are standing on a terrace facing each other, with the woman's right hand on his left shoulder. Behind them are buildings, and a sun is setting down.

महिलाओं का विवाह पश्चात् ‘प्रवसन’ और उससे जुड़े कुछ मुद्दे

यूँ तो विवाह और उससे जुड़े महिलाओं के ‘स्थान परिवर्तन’ को ‘प्रवसन’ का दर्ज़ा दिया ही नहीं जाता है, इसको एक अपरिहार्य व्यवस्था की तरह देखा जाता है जिसमें पत्नी का स्थान पति के साथ ही है, चाहे वो जहाँ भी जाए। पूर्वी एशियाई देशों में, १९८० के दशक के बाद से एक बड़ी संख्या में महिलाओं के विवाह पश्चात् प्रवसन का चलन देखा गया है जिन्हें ‘फॉरेन ब्राइड’ या विदेशी वधु के नाम से जाना जाता है। इन देशों की लिस्ट में भारत के साथ जापान, चीन, ताइवान, सिंगापुर, कोरिया, नेपाल जैसे कई देशों के नाम हैं। यदि विवाह से जुड़े प्रवसन को कुल प्रवसन के आकड़ों के साथ जोड़ा जाए तो शायद ये महिलाओं का सबसे बड़ा प्रवसन होगा।
A collage of photos of various notable feminists including Madame Cama, Savitribai Phule, Ismat Chughtai, Sampat Pal Devi, and so on

जिनपर हमें अभिमान है !

जहाँ महिलाओं का अंतरिक्ष में पहला कदम महिला विकास की ओर एक बड़ा कदम है वहीं समाज में हो रहे बदलावों में महिलाओं का योगदान भी प्रशंसनीय है जो सदियों से हमारे समाज को एक नई दिशा दे रहा है। 8 मार्च को ध्यान में रखते हुए जिसे ‘अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस’ के रूप में मनाया…
a pencil sketch of two hands touching

सहमति

भारतीय कानून में विसंगतियों की एक बड़ी संख्या है, चाहे हम सहमति की उम्र का उल्लेख करने वाले विभिन्न कानूनों को देखें या ‘बच्चे’ की परिभाषा बताने वाले विभिन्न कानूनों को।  किशोर न्याय (बालकों की देख-रेख और संरक्षण) संशोधन अधिनियम 2006 के अनुसार ‘बालक’ की उम्र 18 वर्ष से कम है और वे कार्यरत नहीं…
A collage of photos of various notable feminists including Madame Cama, Savitribai Phule, Ismat Chughtai, Sampat Pal Devi, and so on

जिनपर हमें अभिमान है !

जहाँ महिलाओं का अंतरिक्ष में पहला कदम महिला विकास की ओर एक बड़ा कदम है वहीं  समाज में हो रहे बदलावों में महिलाओं का योगदान भी प्रशंसनीय है जो सदियों से हमारे समाज को एक नई दिशा दे रहा है। 8 मार्च को ध्यान में रखते हुए जिसे ‘अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस’ के रूप में मनाया…
x