A digital magazine on sexuality, based in the Global South: We are working towards cultivating safe, inclusive, and self-affirming spaces in which all individuals can express themselves without fear, judgement or shame
a gay man's daughter: silhouette of a man holding up his daughter
CategoriesHuman Rights and Sexualityहिन्दी

एक गे पुरुष की बेटी

विषय के बारे में बात करने से पहले, मैं खुद यौनिकता को समझना चाहती हूँ। क्या यह केवल यौनिक पहचान है? हमारा पालन-पोषण यही सिखाते हुए किया जाता है कि लडकियाँ केवल लड़कों के साथ संबंध बना सकती हैं और लड़के केवल लड़कियों के साथ। लेकिन मेरे जीवन में यह एक बड़ी मतभिन्नता की बात तब साबित हुई जब मैंने अपने घर पर ही एक विरोधाभास देखा – मैंने अपने एक बहुत ही करीबी रिश्तेदार को अपने ही जेंडर के व्यक्ति के साथ यौन गतिविधि में शामिल होते हुए देखा। मुझे झटका लगा था; यह मेरे लिए सदमे की तरह था। दिन बीतते गए, साल बीतते गए, और मैं इसकी गवाह रही। मैं यह बात किसी और को बता नहीं सकती थी, क्योंकि यह रिश्तेदार कोई और नहीं मेरे पिता थे। मैंने कभी उन्हें अपनी माँ के साथ अंतरंग होते नहीं देखा। मेरी बहन यह सब समझने के लिए बहुत छोटी थी। मैं असली और नकली के बीच फंस सी गई थी। मेरी माँ को मेरे पिता के बारे में पता था और इससे उनके रिश्ते पर असर पड़ा। मेरी माँ कभी-कभी मुझसे कहती थीं, “मैं इस रिश्ते में सिर्फ़ तुम्हारे कारण हूँ।”

क्या यह मेरे पिता की गलती थी? शुरू में, मुझे लगा कि यह उन्हीं की गलती है, लेकिन फिर मुझे समझ में आने लगा कि वह स्वयं इस स्थिति में असहाय हैं। उस दुनिया में जीवित रहना कितना मुश्किल था, जहाँ एक ओर उन्हें अपनी पत्नी के साथ एक नकली रिश्ता बनाना पड़ता था, हालाँकि वह मेरी माँ का बहुत सम्मान करते थे, और साथ ही साथ अपनी यौन इच्छाओं को कहीं और पूरा करना होता था। वह कभी-कभी एक पीड़ित भी होते थे, जब उनके पुरुष साथी उनकी इच्छा को पूरा करने के बदले में बड़ी रकम लेते थे, और बाद में मुकर जाते थे।

बड़े होने पर, मुझे इस विषय के बारे में अधिक जानने में रुचि होने लगी। क्या मेरे पिता जैसे और भी लोग थे? क्या यह कानूनी है? मैंने यौन विविधता के बारे में पढ़ा और पढ़ा कि कैसे सभी यौनिक पहचान के लोगों को समान अधिकार हैं, एलजीबीटी समुदाय, और कानून उनके बारे में क्या कहता है, आदि सभी विषयों पर पढ़ा। हालांकि तस्वीर पूरी तरह से खुशनुमा नहीं है, पर इस क्षेत्र में बहुत काम हो रहा है और भविष्य के लिए अभी भी उम्मीद है।

मेरे पिता अब नहीं हैं, लेकिन अभी भी वो ही हैं जो मुझे कठिन परिस्थितियों से निपटने की ताकत देते हैं, जैसे उन्होंने अपने जीवन में हमेशा किया था। उन्होंने हमेशा मेरी माँ की चयन की स्वतंत्रता को प्रोत्साहित किया था, कहीं न कहीं, सामाजिक दबाव में आकर मेरी माँ से, अपनी मर्ज़ी के ख़िलाफ़ शादी करने के लिए वे स्वयं को दोषी मानते थे। लेकिन एक बात जो मुझे मालूम है, और इससे इनकार नहीं किया जा सकता, कि वह मेरी माँ से प्यार करते थे। मेरे लिए, यह हमेशा याद रखने वाली सबसे ख़ास बात होगी।

To read this article in English, please click here.

x