A digital magazine on sexuality, based in the Global South: We are working towards cultivating safe, inclusive, and self-affirming spaces in which all individuals can express themselves without fear, judgement or shame

Author: Tanvi Khemani

मुंबई में रात में एक रेलवे स्टेशन के सामने अलग-अलग रंग के खंभों पर लटके हुए कपड़ों की तस्वीर

वाशी की लास्ट लोकल

न जाने कितने अनुभवों के बाद ही मैंने यह समझा था कि देर रात से घर लौटने के लिए आख़री लोकल ट्रेन में सफर करना भी एक विकल्प हो सकता है। अपने घर से दूर किसी दूसरे शहर में रहते हुए बड़े होने का एक लाभ यह होता है कि आप दुनिया को एक नए नज़रिये से देख पाते हैं।
A photograph of differently coloured cloths hanging from poles in front of a train station in Mumbai, at night

The Last Local To Vashi

I gave myself the freedom to choose. And I chose to re-examine my assumptions. Maybe it was possible to ask strange men for directions without being afraid of seeming vulnerable. Maybe I could plan my outfit without bothering about the fact that I would be travelling on public transport.
x