A digital magazine on sexuality, based in the Global South: We are working towards cultivating safe, inclusive, and self-affirming spaces in which all individuals can express themselves without fear, judgement or shame

Author: K F

एक टूटे हुए शीशे की तस्वीर। इस तस्वीर में शीशे के धारें दिखाई पड़ रही हैं।

कभी दोस्त रहे एक व्यक्ति के नाम खत 

अब मैं बार–बार पीछे मुड़कर देखने और अंजान आदमियों के भय से डरी रहने से भी थक चुकी हूँ। मेरे मन में हमेशा यह डर बना रहता है कि मेरी शारीरिक सीमायों का कोई उल्लंघन न कर दे और साथ ही मैं अब लोगों को अपने से दूर रखते रहने की कोशिश करते हुए भी थक चुकी हूँ।

An open letter to a former friend

(Tread gently. This article contains material on sexual assault) Dear A, I don’t know why I’m writing this. Maybe it will help declutter my mind. ***  We met in 2013, by chance, at your university campus. Looking back, my first impression of you is in stark contrast to how I think of you today. I…
x