Hindi page of self-care essentials

स्वयं की देखभाल

स्वयं की देखभाल है अनिवार्य

लगभग सभी अपने जीवन में तनाव का सामना करते हैंऔर जो “लोगों के साथ प्रत्यक्ष रूप से काम करते है (पीपल वर्क)” उनके मामले में यह और अधिक होता है। लंबे समय तक तनाव, उन क्षेत्रों में हमारी रुचि या उत्साहित होने की क्षमता को कम कर सकता है जिनसे हमारा गहराई से लगाव होता है या जो हमें प्रेरित करने वाले होते हैं – इस स्थिति को बर्नआउट कहते हैं। अगर हम बर्नआउट होने से पहले ही तनाव को संभालने के तरीके खोज सकें, तोइस वेबसाइट में हम आत्म-देखभाल करने के तरीकोंऔर संसाधनों को शामिल करते हैं जिससे लोगों के साथ काम करने वाले व्यक्तियों को तनाव को संभालने और बर्नआउट को रोकने में मदद मिल सकती है। 

तारशी (TARSHI)  के इस क्षेत्र में कई वर्षों के काम से हम जानते हैं कि “लोगों के साथ काम करने वाले” और खासकर जेंडर और यौनिकता से संबंधित मुद्दों पर – जो भारतीय और दक्षिण एशियाई समाजों में वर्जित हैं – काम करने वालों में तनाव और बर्नआउट की गुंजाइश अधिक होती है। अक्सरलोगों के साथ काम करने में दूसरों के कठिन परिस्थितियों में अनुभवों को सुनने और उनसे बातचीत करने का काम शामिल होता है और कभी कभी इसके अलावा किसी दूसरे व्यक्ति के दर्द को कम करने के लिए हम शायद ही कुछ और कर सकते हैं। इसके अतिरिक्तइस तरह के मुद्दों पर काम करने वाले भी अपने अंदर की आवाज़ के कारण इस काम से जुडते हैंजो इस मुद्दे को अपने स्वयं के जीवन के साथ भी करीब से जोड़ते हैंजिससे आत्म-देखभाल को प्राथमिकता देना मुश्किल हो जाता है। एक्टिविस्टों और हाशिए पर रहने वाले समुदायों के लोगों में विशेष रूप से तनाव प्रबंधन और बर्नआउट की रोकथाम पर ध्यान न देने की संभावना होती है।

इस वेबसाइट के साथहमएक्टिविस्ट, काउन्सिलर जैसे लोगों को आत्म-देखभाल को केंद्र में रखने के लिए मदद करना चाहते हैं – क्योंकि आपको आत्म-देखभाल और खुशहाली का अधिकार है। क्योंकि तनाव या बर्नआउट दूसरों की मदद करने की आपकी क्षमता को कम करेगा।

क्या तनाव को संभालना और बर्नआउट रोकथाम केवल एक व्यक्तिगत चिंता हैनहीं।

तनाव प्रबंधन और बर्नआउट की रोकथाम केवल एक अकेले की ज़िम्मेदारी नहीं है। मानव एक पर्यावरण तंत्र (ecosystem) का हिस्सा हैजो कई संस्थानों – परिवारकार्यस्थलआंदोलनोंबड़े समाजों, इत्यादि से संबंधित है। तनाव के कुछ बड़े स्रोत हमारे नियंत्रण से परे हैं – जैसे किपितृसत्ताएबलिस्म यानि गैर-विकालांग व्यक्तियों के पक्ष में भेदभावहोमोनेगेटिविटी यानि समलैंगिकता के प्रति नकारात्मक सोचजाति आधारित भेदभाव और बहुत कुछ। लेकिन इसके बावजूद,  हमारे कार्यस्थलों जैसी संस्थाएं और समूह हमारे तनाव को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। इसीलिएयह वेबसाइट सामूहिक देखभाल (collective care) पर भी जानकारी और संसाधन उपलब्ध कराती है (हम हिंदी में भी जल्द ही और भी संसाधन शामिल करने की उम्मीद करते हैं)। जो कारक व्यक्तियों में, विशेष रूप से उनमें जो लोगों के साथ काम करते हैं – तनाव और बर्नआउट पैदा करते हैं। उनके बारे में अधिक जानने के लिएनज़रिया के साथ हमारे काम की इस रिपोर्ट को पढ़ें।

grey and light peach leaves

कुछ सामान्य प्रश्न

तनावबर्नआउटआत्म-देखभाल और कार्यस्थलों / समूहों के बारे में पूछे जाने वाले कुछ सामान्य प्रश्न यहाँ दिये गये हैं।

plant on a wine coloured patch

पठन सामाग्री

यहाँ तारशी और अन्य संस्थाओं द्वारा लिखे गए लेख उपलब्ध हैं जो विशेष रूप से यौनिकता और एक व्यक्ति की पहचान के संदर्भ में आत्म-देखभाल, और खुशहाली के अन्य पहलुओं के बारे में हैं।

संसाधन सामग्री

इस पेज पर आपको तारशी द्वारा तैयार वर्कशीट्स नज़र आएंगी जो आपको आत्म-निरीक्षण करना सीख पाने की दिशा में ले जाएंगी। इस भाग में शामिल गतिविधियां आपको अपने तनाव, अपने विचारों, मनोभावों और मान्यताओं के बारे में ज़्यादा जान पाने में सहायक होंगी।

plant on a light peach coloured patch

अपनी खुद की टूलकिट तैयार करें

 यहाँ आप को कुछ सुझाव मिल सकते हैं कि आत्म-देखभाल की अपनी खुद की टूलकिट में आप क्या शामिल कर सकते हैं। 

leaves on a green patch

स्वयं की देखभाल के लिए कुछ सुझाव

स्वयं की देखभाल करने के कई तरीके हैं। इस पृष्ठ में हमने कुछ उपकरण जोड़े हैं जो आपके स्वयं की देखभाल के अभ्यास का एक हिस्सा हो सकते हैं।

तारशी का आत्म-देखभाल व खुशहाली पर कार्य

यहाँ पढ़ें कि कैसे तारशी के शुरूआती वर्षों के दौरान चलाई गई यौनिकता हेल्पलाइन ने स्वयं की देखभाल पर हमारे काम – जिसका किरणकेंद्र तनाव प्रबंधन और बर्नआउट की रोकथाम है – को आगे बढ़ाया।

Increase / Decrease
Contrast