A digital magazine on sexuality in the Global South

agency

Image of a hostel room

स्वीकार्यता, स्वतन्त्रता और महिलाओं का हॉस्टल 

आज मुझे लड़कियों के अपने हॉस्टल से निकले हुए तीन वर्ष हो चुके हैं, और मुझे लगता है कि हॉस्टल जीवन में मिली सभी सीखें आज भी मेरे यौनिक जीवन को सही दिशा देने में कारगर साबित हो रही हैं।
A piece of paper signifying a letter

एक ख़त मेरे नाम जब मैं १६ की थी

इसलिए, तुम्हारे आज के स्वः या अवतार के रूप में, मैं तुम्हें अपनी क्षमताओं में विश्वास रखने के लिए प्रोत्साहित करती हूँ, अपने सपनों पर केंद्रित रहना, एक स्वाभाविक मूल्य प्रणाली विकसित करना जो हठधर्मिता से मुक्त हो, हमेशा जिज्ञासु बनी रहना और निरंतर सीखने की अपनी इच्छा का पोषण करना, और अपना जीवन स्वतंत्र रूप से और पूरी तरह से जीना।
picture of a flower in bloom

Issue in Focus: Sexual Rights

It may be useful to visualise sexual rights as a large tree with deep roots and a vast canopy of leaves. Or as a giant umbrella. Or a big tent. Whatever tickles your imagination and allows you to see it as a conceptual and practical tool to make claims for any aspect that relates to how we express sexuality.
A scene from Sita Sings The Blues. Scott, A. O. “Legendary Breakups: Good (Animated) Women Done Wrong in India.” An illustration of sita lying in bed with hanuman behind her.

Why Do We Find Erotica Shameful?

Erotica, which according to statistics is largely a women dominated genre, often creates a platform where women across space and time can connect and don’t feel alienated in their sexual needs when they find a heroine with the same desire, or when they read about a plot situation which resonates with their own.
picture of a group of young girls posing together, in rural India

वर्ग, जाति और विकल्प

हमें इस तरह से ढाला गया है कि तथाकथित 'विकल्प' जो हमारे संबंधों को परिभाषित करते हैं, वे भी हमारे लिए हुए विकल्प नहीं बल्कि समाज द्वारा सृजित हैं। हालाँकि, जैसा कि हमने देखा है, इन सभी चुनौतियों के बावजूद, महिलाएँ, जब वे खुद को व्यक्तियों के रूप में महत्वपूर्ण मानने लगती हैं, तो वे अपने परिवेश और परिवार के सदस्यों के साथ बातचीत करने की रणनीति तैयार करती हैं।
a colourful abstract pattern - mxiture of blue, yellow, orange and green

Editorial: Public Space and Sexuality

In our mid-month issue Shilpa Phadke brings us an interesting mix of ideas woven from narratives of pleasure, danger, and resistance, among others, with regard to the digital streets of online spaces, and explores the conditions of possibility that will allow us to have fun in the online public space that is the Internet...
x