A digital magazine on sexuality in the Global South
यौन कल्पनाएँ
Fantasy and Sexualityहिन्दी

कल्पनाएँ – हमारा आनंद, हमारा मामला, हमारा अधिकार

कल्पना करने का सीधा मतलब है आभासी विश्वास के साथ खेलना, यह जानते हुए विश्वास करने का खेल खेला जा रहा है। यही उसे इतना प्रभावकारी और सुरक्षित बनाता है। यह अपने दिमाग में एक फ़िल्म बनाने जैसा है, जिसमें मुख्य किरदार के रूप में अक्सर हम स्वयं ही होते हैं, और इसमें दूसरे लोग, जगह, वस्तुएँ आदि शामिल हो भी सकती हैं और नहीं भी।

अधिकतर मामलों में कल्पना करने की प्रक्रिया, अपने आप में, सुखद और सचेत होकर की जाने वाली प्रक्रिया होती है।[1]

कल्पनाएँ अनेकों अलग-अलग चीज़ों के बारे में हो सकती है – खाद्य पदार्थ, छुट्टियाँ मनाने की जगह, सबसे नए इलेक्ट्रॉनिक सामान, हमारी आजीविका, रिश्ते और ऐसे ही अन्य कई। कभी-कभी हम उन्हें सच बनाने की चेष्टा कर सकते हैं, और कभी-कभी हम उन्हें अपने दिमाग की दुनिया में ही छोड़कर संतुष्ट होते हैं।

यौन कल्पनाएँ वे कल्पनाएँ हैं जो यौन उत्तेजना पैदा करती हैं या उस व्यक्ति के लिए कामोत्तेजक होती हैं जो कल्पना कर रहे हैं। ‘उस व्यक्ति के लिए जो कल्पना कर रहे हैं’ – महत्वपूर्ण शब्द हैं जो हमें यह याद दिलाते हैं कि लोग अलग-अलग होते हैं, वे अलग-अलग प्रतिक्रियाएँ करते हैं और इसीलिए उनकी कल्पना की विषयवस्तु भी पृथक हो सकती हैं।

यौन कल्पनाएँ हमें एक ऐसी दुनिया को बुनने की अनुमति देती हैं जिसके साथ हम खेलना चाहते हैं, लेकिन वास्तविकता में, हो सकता है हम ऐसी दुनिया नहीं चाहते हों। कल्पना करना किसी चीज़ की इच्छा करने से अलग है। इसीलिए लोग ऐसी चीज़ों के बारे में यौन कल्पनाएँ कर सकते हैं जिन्हें वे कभी भी कार्यान्वित नहीं करेंगे – जैसे कि बहुत बड़ी संख्या में दर्शकों के सामने सेक्स करना, या ज़ेबरा के साथ, या किसी मशहूर फ़िल्म अभिनेता के साथ या फिर बगल में रहने वाले पड़ोसी के साथ सेक्स करना। और यह सब सुरक्षित है। यह ऐसे कपड़ों को पहन कर देखने जैसा है जिन्हें आप कभी किसी और को दिखाने के लिए नहीं पहनेंगे, लेकिन अपने कमरे की एकान्तता में, एक पल के लिए देखना चाहेंगे कि वे आप पर कैसे दिखते हैं। यह हर रोज़ के कपड़े भी हो सकते हैं जो दूसरे व्यक्ति पहनते हैं, लेकिन किन्हीं कारणों से आप नहीं पहनते, तो आप डिपार्टमेंटल स्टोर में जाते हैं, उन्हें उठाते हैं, और ट्रायल रूम में जाकर देखते हैं कि वो आप पर कैसे लगते हैं, उन्हें महसूस करते हैं, और फिर उन्हें ख़रीदे बिना ही बाहर आ जाते हैं। कल्पनाएँ हमारे जीवन को रोचक बनाती हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि वे असली हैं या हम उन्हें सच बनाना चाहते हैं। उनको सच बनाने के ठोस कारण हों तो भी नहीं। उदाहरण के लिए, बलात्कार की कल्पनाएँ कथित तौर पर बहुत ही आम हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि जो महिलाएँ ऐसी कल्पना करती हैं वे वास्तव में चाहें की उनपर बलात्कार हो। या, वे लोग जिनकी कल्पना सगे-सम्बंधियों के साथ यौन सम्बन्ध बनाने की होती है, वे वास्तव में उन्हें पूरा करना चाहते हैं, और या फिर वे लोग जिनकी कल्पना ममी की तरह बंधे होने की होती है (ईजिप्ट में मिलने वाले परिरक्षित शव, ना कि आपकी मम्मी जैसी) वे मारा जाना चाहते हैं।

कई बार, कल्पनाओं में ऐसे तत्व शामिल होते हैं जो वर्जित होते हैं और शायद यही उन्माद का कारण भी हैं। अगर वर्जित या सामाजिक तौर पर अस्वीकृत काम (उदहारण के लिए, सार्वजनिक जगहों पर सेक्स) वर्जित नहीं होते, क्या तब भी इसके बारे में कल्पनाएँ आकर्षक बनी रहतीं?

जो वर्जित है उससे मन ही मन सोचकर ख़ुशी पाने के अलावा, यौन कल्पनाएँ हमें सुरक्षित रूप से खोज करने का और बिना किसी प्रतिबद्धता के, बिना किसी परिणाम की चिंता के, विभिन्न तरीकों से रहने और उनका आनंद लेने का मौका देती हैं। यह कुछ-कुछ ऐसा है जैसे हम बिना खाना बनाने की झंझट के, या बर्तन साफ़ करने या अपच और वज़न बढ़ने की चिंता के भी अपने मन की चीज़ खाने का मज़ा ले सकते है।

कल्पनाएँ जूनून को हवा दे सकती हैं, किसी यौन कार्य में उत्साह ला सकती है (चाहे अकेले, किसी अन्य व्यक्ति के साथ या किसी सेक्स टॉय के साथ), जब मन भटक रहा हो या इच्छा ख़त्म हो रही हो तो किसी व्यक्ति के मनोयोग को सेक्स पर केन्द्रित रख सकती हैं, यह इच्छा को कामोत्तेजना की चरम सीमा तक पंहुचा सकती हैं, व्यक्ति को यौन रूप से मनपसंद और इच्छा करने योग्य महसूस करा सकती हैं, और कभी-कभी, व्यक्ति को उनकी ख़ुद की रचनात्मकता या लालसा से आश्चर्यचकित कर सकती है।

तो, अगर कोई शाहरुख खान या ऐश्वर्या राय, या किसी भी अन्य व्यक्ति को, या जूतों, या सिल्क स्कार्फ़ को लेकर यौन कल्पना करते हैं, तो क्या हमें उनसे घृणा करनी चाहिए या उनकी कल्पनाओं को घटिया समझना चाहिए? आखिरकार लोगों की अलग-अलग प्राथमिकताएं होती हैं… कुछ को साधारण सेक्स पसंद होता है, कुछ को मल। जी हाँ, लोगों की यौन कल्पना में मल भी हो सकता है। मूत्र। सार्वजनिक शौचालय। बोलने वाले तोते। (आख़िरी वाला मज़ाक था, लेकिन कौन जाने, शायद बोलने वाले तोते कुछ लोगों की मानसिक सेक्स फ़िल्म में मुख्य किरदार हों।)

शायद हम उनकी कुछ यौन कल्पनाओं से उत्तेजित न हों, लेकिन फ़िर, शायद वे भी हमारी कुछ यौन कल्पनाओं से उत्तेजित न हों। उन्हें यह लग सकता है कि साफ़ सुथरी सफ़ेद चादर पर सेक्स की कल्पना उबाऊ है, जबकि हम सोच सकते हैं कि सार्वजनिक शौचालय में किसी गुमनाम के साथ सेक्स की कल्पना घिनौनी है। या, हम सोच सकते हैं कि किसी अजनबी को शामिल कर यौन कल्पना बहुत ही पुरानी बात है, जबकि वे अपने सबसे अच्छे दोस्त के साथ सेक्स की कल्पना करते हैं… हर व्यक्ति स्वयं अपने लिए कल्पना कर सकते हैं।

उत्तेजना पैदा करने वाले लेख और फिल्में हमें अपने किरदारों के साथ पहचान कर (या नहीं कर) कल्पना के लिए आमंत्रित करते हैं और फिर शायद अपने स्वयं के कथानक विकसित करने के लिए भी। ऑनलाइन जगहें भी इन कल्पनाओं को बनाने, साझा करने और उन्हें कार्यान्वित करने के लिए अद्भुत अवसर प्रदान करती हैं। गुमनाम बनने और रहने की सुरक्षा। अपने आपको व्यक्त करने की छूट। या एक नए नाम के साथ, नया रूप बनाने की छूट, एक नए व्यक्तित्व और शायद जेंडर और यौन पहचान भी, और अन्य लोगों से मेलजोल की जो शायद ‘असलियत’ में वो हों भी नहीं जिसका वे दावा करते हैं, लेकिन शायद बिलकुल यही इसका मज़ा है। एक जगह जहाँ आप चुपके से जा सकते हैं, खोज के लिए और अपने आप उन अवस्थाओं में आनंद लेने की जिसके लिए रोज़मर्रा के काम इजाज़त नहीं देते। और वे लोग जो और अधिक मानवीय संपर्क चाहते हैं और दर्शक चाहते हैं, उन्हें अपने जेंडर से विपरीत प्रदर्शन या ड्रैग परफॉरमेंस की जगहें ऐसा करने के लिए अनुमति देती है, उदाहरण के लिए, उन्हें “अपनी कल्पना की ताक़त को महसूस करने” की अनुमति देती है।

कुछ अन्य ज़रिए भी हैं। एक ऐसे समाज में जहाँ मानवीय संपर्क बहुत कठिन लगता है, या बहुत डरावना, या बहुत मेहनत वाला लगता है, और ऑनलाइन सामान मंगवाना बहुत आसान है, यहाँ कल्पनाओं को कार्यान्वित करने के लिए पूरा बाज़ार है (मुख्यतः पुरुषों के लिए) – हर तरह के सेक्स टॉय, जिसमें जीवंत ‘लव डॉल्स’ भी शामिल हैं। यह सिलिकॉन से बनी गुड़ियाँ हैं जिन्हें सेक्स के लिए उपयोग में लाया जाता है। वे त्वचा के कई रंगों में उपलब्ध हैं, लचीली या बिना लचीली उँगलियों वाली, अलग-अलग चेहरों, अलग-अलग नकली बालों के विग के साथ और यहाँ तक कि डॉली को पहनाने के लिए अंतःवस्त्रों के चुनाव के अतिरिक्त विकल्पों के साथ उपलब्ध हैं। ज़रा सोचिये अलग-अलग तरह के परिवर्तनों और मेल-मिलाप की कल्पनाओं के बारे में जो प्यारी डॉली के साथ कार्यान्वित किए जा सकते हैं – इस वाले में वह अपनी उंगलियाँ हिला सकती है, यहाँ वह अपने सीधे बालों वाले विग के साथ है, वहाँ उसने बैंगनी निकर पहनी हुई है, और भी कई सारे… मुझे अभी तक, इन्टरनेट पर ‘पुरुष लव डॉल’ नहीं मिली है, लेकिन हो सकता है उनकी मांग ज़्यादा न हो।

लेकिन लव डॉल्स ज़्यादा लम्बे समय के लिए नहीं चलेंगी। क्योंकि ऐसे समाज में जो दिन ब दिन तकनीकी रूप से विकसित होता जा रहा है, जहाँ एक रोबोट से बात करना एक तरह का रिश्ता कायम करने जैसा है, बहुत जल्दी ही यहाँ सेक्स रोबोट्स होंगे! (और, अभी से ही, उनपर प्रतिबन्ध लगाने के लिए एक आन्दोलन है, तर्क यह है कि सेक्स रोबोट्स स्त्री द्वेष को बढ़ावा देंगे। मुझे यह उतना ही बेतुका लगता है जितना कि यह कथन कि मॉस खाने वाले लोगों के लिए अगला कदम जानवरों को छोड़ इंसानों को खाना होगा!)

“अच्छा,” आप कह सकते हैं, “कुछ कल्पनाएँ नुकसानदेह नहीं होती।  थोड़ी विचित्रता ज़िन्दगी को रोचक बना सकती है, लेकिन कुछ अधिक ही विचित्र कल्पनाओं का क्या? क्या उन पर नियंत्रण नहीं रखा जाना चाहिए? और क्या वे इस बात की सूचना नहीं देते कि जो लोग ऐसी कल्पना कर रहे हैं उनके साथ कुछ गड़बड़ है…” ये गलतफ़हमी है कि कल्पनाएँ नुकसान पहुंचा सकती हैं; और अगर उन्हें काबू में नहीं किया गया तो वह ऐसे कार्यों को बढ़ावा देंगे जो नकारात्मक परिणामों से भरे होंगे; और यह कि अधिकतर कल्पनाएँ ‘सामान्य’ होने के बजाए अजीब और असामान्य हैं।

कल्पनाएँ अपने में कोई नुकसान नहीं पहुंचाती। लोग जब कल्पना कर रहे होते हैं तब उन्हें पता होता है कि वे कल्पना कर रहे हैं और वे इस बात का निर्णय ले सकते हैं कि कल्पना के किस हिस्से को वे कार्यान्वित करना चाहते हैं, यदि वे ऐसा करना चाहें तो ही। और अगर वे दूसरे व्यक्ति के साथ परस्पर सहमति के साथ कार्यान्वित करते हैं, तो नुकसान कहाँ है? हाँ, यदि इसमें अत्यधिक शारीरिक अनुभूति (जो किसी और को ‘दर्द’ की तरह लगती हो) शामिल हो या सबमिसिव-डोमिनेंट रोल-प्लेयिंग (जो किसी को ‘दुर्व्यवहार’ की तरह लगती हो), यह सहमति के सन्दर्भ में ताक़त के साथ खेलना है। यह किसी अन्य व्यक्ति का मामला नहीं है।

अजीब कल्पनाएँ? कनाडा में एक बहुत ही दिलचस्प अध्ययन किया गया जिसमें शोधकर्ताओं ने सवाल पूछे कि असाधारण यौन कल्पना वास्तव में क्या है? उन्होंने यह जानने के लिए कि कौन सी यौन कल्पनाएँ दुर्लभ, असामान्य, मामूली या प्रतीकात्मक हैं, क्यूबैक प्रान्त के जनसाधारण से 1,516 वयस्कों से आँकड़े एकत्र किए। बेशक, यह अध्ययन कनाडा के क्यूबेक में किया गया था, तो दुनिया की अन्य जगहों के बारे में व्यापक तौर पर अनुमान लगाने से पहले सभी को यह ध्यान में रखना होगा, लेकिन यह भविष्यसूचक है, कि सब एक जैसे ही हैं। तो उनका क्या निष्कर्ष रहा? उनके पेपर में, जो कि जर्नल ऑफ़ सेक्स मेडिसिन 2014 में छपा है, वे यह कहते हैं कि “किसी भी यौन कल्पना को दुर्लभ करार देने से पहले बहुत ध्यान देना होगा, विकृत करार करना तो दूर कि बात है।”[2]

अन्य परिणामों के बीच एक दिलचस्प परिणाम यह है कि सबमिसिव-डोमिनेंट रोल-प्लेयिंग महिलाओं और पुरुषों दोनों ही के बीच सामान्य हैं, एक दूसरे से जुड़े हुए हैं (इसका मतलब है कि दोनों एक दूसरे के प्रतिरोध में नहीं हैं), और अधिक यौन खुलेपन से भी जुड़े हुए हैं और शायद अधिक यौन संतुष्टि से भी। शोधकर्ता अपना पेपर इस निष्कर्ष के साथ ख़त्म करते हैं कि, “चिकित्सक और शोधकर्ता यह देखने के लिए कि यौन कल्पनाएँ या तो तर्कहीन हैं या असामान्य, केवल यौन कल्पनाओं की विषय वस्तु पर ध्यान केन्द्रित नहीं कर सकते।” वे सपष्ट करते हैं कि कुछ लोगों के लिए ऐसी यौन कल्पनाएँ जिन्हें ‘व्यावहारिक’ माना गया है, कष्टप्रद हो सकती हैं, उदाहरण के लिए खुले तौर पर एक समलैंगिक व्यक्ति जिनकी कल्पनाएँ विषमलैंगिक हों। जबकि ऐसी कल्पनाएँ जिसमें किसी को दर्द देकर ख़ुशी मिलती हो उन्हें ‘असामान्य’ माना जाता है, वे उन लोगों के द्वारा भी की जा सकती हैं जो शायद यौन रूप से संतुष्ट हों, अगर अधिक नहीं तो, उन लोगों के मुकाबले जो ऐसी कल्पनाएँ नहीं कर पाते।

मुद्दे पर आते हैं – आइए कल्पनाओं को अजीब या विकृत यहाँ तक कि असामान्य कहकर वर्गीकृत नहीं करें। लेकिन लोग एक दूसरे को अपने-अपने हाल में छोड़कर संतुष्ट नहीं हैं। वे हर चीज़ पर नियंत्रण रखना चाहते हैं। यहाँ तक कि कल्पनाओं पर भी। जैसे कि हर कल्पना बिना चूके आपको किसी कृत्य की ओर ही ले जाती है। और वह कृत्य उत्तरोत्तर सबसे ‘ख़राब’ काम की तरफ़ ही जायेगा – जैसा कि गेल रुबिन [3]ने 30 साल से भी पहले अपनी “डोमिनो थ्योरी ऑफ़ सेक्सुअल पेरिल” में बहुत ही सटीक और व्यंगपूर्ण ढंग से हमारे सामने रखा था। यौन कल्पनाएँ हमारी मानसिक यौन फिल्में हैं, हमारे निजी यौन जीवन का एक हिस्सा। और अगर हम अकेले उन्हें कार्यान्वित करते हैं, किसी सेक्स टॉय, एक सेक्स डॉल या किसी और व्यस्क व्यक्ति के साथ उनकी सहमती के साथ, वह हमारा आनंद, हमारा मामला और हमारा अधिकार है।

—————————————————————————————————————————

Cover Image: Shreyasi Das

[1] हालाँकि, यदि कल्पनाएँ अनचाही, बार-बार, बाध्यकारी या व्यक्ति को परेशान करने वाले आदि स्वभाव की हों, तो पेशेवरों की मदद लेना समझदारी भरा निर्णय होगा।

[2] Joyal CC, Cossette A, and Lapierre V। What exactly is an unusual sexual fantasy?। J Sex Med 2015;12:328–340। Available here

[3] Gayle Rubin, 1984। Thinking Sex: Notes for a Radical Theory of the Politics of Sexuality, in Carole Vance (Ed।) Pleasure and Danger: Exploring Female Sexuality, Routledge & Kegan, Paul

श्रद्धा माहिलकर द्वारा अनुवादित

 To read this article in English, please click here

Comments

Article written by:

Trained as a clinical psychologist at the National Institute of Mental Health and Neurosciences (NIMHANS), Radhika founded TARSHI in 1996. She has co-edited 'Sexuality, Gender and Rights: Exploring Theory and Practice in South and Southeast Asia' (Sage, 2005) and authored the popular 'Good Times for Everyone: Sexuality Questions, Feminist Answers'.

x